जादुई चक्की की कहानी | Jadui Chakki ki Kahani

Sorry!! you are blocked from seeing ads..
Rate this post

जादुई चक्की की कहानी

बच्चो को जादू टोने की कहानिया बहुत ही अच्छी और रोमांचित करने वाली होती है, ऐसे जादू की कहानिया बच्चो को बहुत ही चाव से सुनते है और अक्सर हर किसी को जादुई कहानिया खूब पसंद आती है तो चलिए एक ऐसी ही Jadui Chakki Ki Kahani बताने जा रहे है जो की बहुत ही अच्छी कहानी है। 

एक गांव में रामू नाम का आदमी रहता था। वह बहुत ही गरीब था उसका परिवार बहुत मुश्किल में था क्योकि वह अपने परिवार को कोई भी सुविधा नहीं दे पाता था। जिससे उसका परिवार मुश्किल में था मगर वह तो यही बात सोचता था की जो भी भगवान करते है वह अच्छा ही करते है। यह भी हो सकता है की भगवान ने उनके लिए कुछ अच्छा ही सोचा होगा जिसे वह वक़्त आने पर ही देंगे। 
एक दिन रात को रामू सो रहा था तभी वह सपना देखता है की उसके पास एक जादुई चक्की आती है। वह उस जादुई चक्की से अपने लिए बहुत तरह के सामान मगाता है। जिससे उसके सामने सभी समस्या खत्म हो रही है।  वह Jadui Chakki उनके लिए हर तरह का आटा पीस सकती है। वह भी सिर्फ नाम लेकर ही ऐसा हो जाता था।  रामू को सपना बहुत अच्छा लग रहा था मगर यह सपना कितनी देर तक था यह बात रामू को जब पता चलती है जब उसका सपना टूट जाता है क्योकि सुबह होती है वह उठ जाता है। 
जब सुबह हो जाती है तो रामू उठ जाता है। और अपनी पत्नी से यह बात कहता है की आज मेने सपने में जादुई चक्की देखी थी यह चक्की हमारे लिए सभी काम कर रही थी पत्नी ने कहा की यह तो सपना है। मगर हकीकत में ऐसा नहीं है तुम जाग गए हो और इस तरह के सपने सच नहीं होते है। सच में हमारी हालत तो बहुत खराब है हम कुछ भी नहीं कर पाते है रामू भी इस बात को समझ गया था। (Jadui Chakki ki Kahani)
जादुई चक्की की कहानी
रामू अपने काम पर जाता है। मगर वह जादुई चक्की का सपना भुला नहीं था उसे याद था की नदी किनारे में उसे वह जादुई चक्की मिली थी अब रामु को लग रहा था की शायद हमारा सपना पूरा हो सकता है। वह नदी किनारे पर जाता है मगर वहा पर कोई भी Jadui Chakki नहीं है वह उदास हो जाता है। तभी उसे एक नाव आती हुई नज़र आती है इस नाव में तो कोई भी नहीं है रामू उस नाव की और जाता है। और कहता है की इसमें कोई नहीं है मगर एक चक्की रखी हुई है इसका मतलब मेरा सपना पूरा हो गया है।  
वह जादुई चक्की जो मेरे सपने में थी वह यहां पर रखी हुई है। वह बहुत खुश हो जाता है। आज उसका सपना पूरा हो गया था वह उस जादुई चक्की को लेता है। और घर चला जाता है वह अपत्नी के पास जाता है और कहता है की मेरा सपना पूरा हो गया है। यह Jadui Chakki मुझे मिल गयी है पत्नी देखती है और कहती है की यह बात तो सच है यह काम कैसे करती है क्या तुम्हे पता है।  वह आदमी कहता है की इस Jadui Chakki के सामने जो भी नाम लिया जायेगा उसके बाद वह काम करने लगेगी हमे जो भी चाहिए यह दे सकती है मगर पत्नी को इस बात पर कोई विश्वास नहीं था।
रामु ने कहा की हमारी घर में बहुत सारा आटा आ जाए उसके बाद चक्की चलने लगती है और बहुत सारा आटा आ जाता है। उसके बाद रामू कहता है। की मुझे बहुत सारी दाल मिल जाए वह जादुई चक्की दाल भी पीस देती है। आज रामू का परिवार भर पेट खाना खा रहा था आज उसे लग रहा था की भगवान हमेशा अच्छा करते है। 
अब उनके दिन बदलने वाले थे क्योकि उन्हें अब खाना मिल गया था। आज उन्हें कोई कमी नहीं था भले ही उन्होंने धन का लालच नहीं किया था क्योकि वह उस Jadui Chakki से अपने लिए खाना ही मंगवाते थे उन्हें जब भी भूख लगती है। वह उस जादुई चक्की से अपने लिए भोजन की व्यवस्था कर चुके होते है पत्नी भी अब जानती थी की अब हमे मुसीबत का सामना नहीं करना होगा उनका पड़ोसी यह सब देख रहा था की आज उनके पास खाने को सब कुछ है। (Jadui Chakki ki Kahani)
Jadui Chakki
जबकि ऐसा समय भी था जब उनके पास कुछ नहीं था। जरूर इसके पीछे कुछ ऐसा है जो मुझे पता नहीं है। वह भी यह देखने के लिए रात को उनके घर के पास खड़ा हो जाता है। क्योकि वह इस बता को जानना चाहता था की यह सब कुछ कैसे हो रहा है। वह खिड़की के पास खड़ा हुआ था और देख रहा था एक जादुई चक्की यह सब कुछ कर रही है उसे विश्वास नहीं होता है। मगर जब वह देख रहा था तो उसे अब यकीन हो गया था की यह सब कुछ वह जादुई चक्की कर रही है। 
वह पड़ोसी अब उस जादुई चक्की को लेना चाहता था क्योकि वह सब कुछ कर सकती है वह अपने घर जाता है। और कहता है की हमे यह गांव आज रात को ही छोड़ना होगा क्योकि अगर हम यहां पर रहते है तो वह जादुई चक्की कोई भी ले जा सकता है। उसकी पत्नी कहती है की यह Jadui Chakki क्या करती है। उसका पति कहता है की यह सब कुछ कर सकती है हमे धन  भी दे सकती है। (Jadui Pencil ki Kahani)
वह पड़ोसी उनके घर से वह जादुई चक्की को चुरा लेता है। क्योकि उसे पता है की यह Jadui Chakki सब कुछ कर सकती है वह कहता है की अब मेरे पास यह चक्की आ गयी है। अब हमे यहां से चलना होगा वह पड़ोसी उस जादुई चक्की को लेकर जाता है। उसे पता है की अब हमारा यहां पर रहना ठीक नहीं होगा वह एक नाव से दूसरे गाँव में जा रहे थे लेकिन उसकी पत्नी को विश्वास नहीं था। इसलिए वह कहती है की हमे इस जादुई चक्की से कुछ मांगना चाहिए उसके बाद यह पता चल जाएगा की यह जादुई चक्की काम कर रही है या नहीं।   
वह पड़ोसी कहता है की तुम्हे यकीन नहीं होता है। मगर मुझे यकीन है क्योकि मैंने उन्हें ऐसा करते देखा था वह जादुई चक्की से कहता है की हमे बहुत सारी दाल दे वह चक्की चलती है। और उन्हें दाल देती है मगर रूकती नहीं है वह आदमी कहता है की मुझे पता नहीं इसे कैसे रोकते है। उसके बाद वह नाव वजन से डूब जाती है। और इस तरह दोनों नाव के साथ डूब जाते है और अपनी जान गवानी पड़ती है और इस तरह उसको अपने लालच का फल मिल जाता है।

Sorry!! you are blocked from seeing ads..

Moral of the story:- इस तरह यह कहानी हमे यही कहती है। की हमे कभी भी गलत काम नहीं करना चाहिए। और लालच करने से हमेसा अपना ही नुकसान होता है।

Note: इस वार्ता(story) को किस लेखक(author) ने लिखा है वो में जनता नही हु, अगर आप कोई जानते हो तो Comment Box में जरूर लिखे।

 

Leave a Comment